Kuchh Peeli Hain Kuchh Peene Laga Lyrics in Hindi. कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा song from Bahu Beta Aur Maa 1992. It stars Asha Chandra, Farida Jalal, Satish Kaul, Rama Vij. Singer of Kuchh Peeli Hain Kuchh Peene Laga is Bhupinder Singh. Lyrics are written by Kulwant Jani Music is given by Surender Kohli

Song Name : Kuchh Peeli Hain Kuchh Peene Laga
Album / Movie : Bahu Beta Aur Maa 1992
Star Cast : Asha Chandra, Farida Jalal, Satish Kaul, Rama Vij
Singer : Bhupinder Singh
Music Director : Surender Kohli
Lyrics by : Kulwant Jani

Kuchh Peeli Hain Kuchh Peene Laga Lyrics in Hindi :

कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा
अभी और भी मैंने पीनी हैं
कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा
अभी और भी मैंने पीनी हैं
मुझे मरने दो अब न रोको
जी भर के ज़हर यह पीने दो

हटो दूर हटो दुनिया वालो
हटो दूर हटो दुनिया वालो
मुझे ज़ख्मो को तुम साइन दो
मुझे ज़ख्मो को तुम साइन दो
कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा
अभी और भी मैंने पीनी हैं

जिसे दिल का चोगा मैंने दिया
वहीँ पंछी अब उस पार गया
मेरा अपना बना दगाबाज़ कोई
मेरे प्यार की दुनिया छोड़ गया
मुझे सजा वफ़ा की मिल गयी रे
मुझे सजा वफ़ा की मिल गयी रे
न प्यार के और करिने दो
कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा
अभी और भी मैंने पीनी हैं

मुझे मरने दो मुझे न छेड़ो
न हाल कोई पुछो मेरा
मैं वह सावन का चाँद जिसे
खुद मेरी बदली ने घेरा
रहने दो कश्ती तूफ़ा में
रहने दो कश्ती तूफ़ा में
न और गुज़ारा सकिने दो
कुछ पीली हैं कुछ पीने लगा
अभी और भी मैंने पीनी हैं
अभी और भी मैंने पीनी हैं.

Kuchh Peeli Hain Kuchh Peene Laga Lyrics in English :

Kuchh peeli hain kuchh peene laga
Abhi aur bhi maine peeni hain
Kuchh peeli hain kuchh peene laga
Abhi aur bhi maine peeni hain
Mujhe marne do ab na roko
Jee bhar ke zeher yeh peene do

Hato door hato duniya walo
Hato door hato duniya walo
Mujhe zakhmo ko tum sine do
Mujhe zakhmo ko tum sine do
Kuchh peeli hain kuchh peene laga
Abhi aur bhi maine peeni hain

Jise dil ka choga maine diya
Wahin panchhi ab us paar gaya
Mera apna bana dagabaaz koi
Mere pyar ki duniya chhod gaya
Mujhe saza wafa ki mil gayi re
Mujhe saza wafa ki mil gayi re
Na pyaar ke aur karine do
Kuchh peeli hain kuchh peene laga
Abhi aur bhi maine peeni hain

Mujhe marne do mujhe na chhedo
Na haal koi puchho mera
Main woh sawan ka chand jise
Khud meri badli ne ghera
Rehne do kashti tufaa mein
Rehne do kashti tufaa mein
Na aur guzara sakine do
Kuchh peeli hain kuchh peene laga
Abhi aur bhi maine peeni hain
Abhi aur bhi maine peeni hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published.