Parbat Se Chan Chan Ke Lyrics in Hindi. पर्बत से छन छन के song from Bhediyon Ka Samooh A Pack Of Wolves. It stars P.L. Ahuja, Praful Ambekar, Brahmachari. Singer of Parbat Se Chan Chan Ke is Gautam Dasgupta, Kavita Krishnamurthy. Lyrics are written by Darpan Sharma, Yogesh Gaud Music is given by Trina Chakraborty

Song Name : Parbat Se Chan Chan Ke
Album / Movie : Bhediyon Ka Samooh A Pack Of Wolves
Star Cast : P.L. Ahuja, Praful Ambekar, Brahmachari
Singer : Gautam Dasgupta, Kavita Krishnamurthy
Music Director : Trina Chakraborty
Lyrics by : Darpan Sharma, Yogesh Gaud
Music Label : Priya

Parbat Se Chan Chan Ke Lyrics in Hindi :

पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं
सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं
सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
दूर दूर कही इसी
अम्बर के नीचे
बदल से बिजली टकरा रही हैं
पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं
सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
घटा छा रही हैं

सुहाना है मौसम
सुहानी घटा हैं
सुहाना है मौसम
सुहानी घटा हैं
रंगीन फ़िज़ा में हैं
नशा सा भुला है
है नशा सा घुला हैं
नशा सा घुला हैं
मेरे दिल को ऐसा लगता है जैसे
ओ मेरे दिल को ऐसा लगता हैं
जैसे अम्बर से कोई
सदा आ रही हैं
सदा आ रही हैं
सदा आ रही हैं
दूर दूर कही इसी
अम्बर के नीचे
बदल से बिजली टकरा रही हैं
पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं
सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
घटा छा रही हैं

पेड़ो पे पंछी
चचा रहे हैं
मस्ती में बाँवरे
मंडरा रहे हैं
मंडरा रहे हैं
कलियों के खिलने का
समां है सुहाना
कलियों के खिलने का
समां है सुहाना
जुदाई के नगमे
फ़िज़ा गा रही हैं
फ़िज़ा गा रही हैं
फ़िज़ा गा रही हैं
दूर दूर कही इसी
अम्बर के नीचे
बदल से बिजली टकरा रही हैं
पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं

सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
घटा छा रही हैं
दूर दूर कही इसी
अम्बर के नीचे
बदल से बिजली टकरा रही हैं
पर्बत से छन छन के
हवा आ रही हैं
सागर से बन बन के
घटा छा रही हैं
घटा छा रही हैं.

Parbat Se Chan Chan Ke Lyrics in English :

Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain
Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain
Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Door door kahi isi
Ambar ke niche
Badal se bijli takra rahi hain
Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain
Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Ghata chha rahi hain

Suhana hai mausam
Suhani ghata hain
Suhana hai mausam
Suhani ghata hain
Rangeen fiza mein hain
Nasha sa bhula hai
Hai nasha sa ghula hain
Nasha sa ghula hain
Mere dil ko aisa lagta hai jaise
O mere dil ko aisa lagta hain
Jaise ambar se koi
Sada aa rahi hain
Sada aa rahi hain,
Sada aa rahi hain
Door door kahi isi
Ambar ke niche
Badal se bijli takra rahi hain
Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain
Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Ghata chha rahi hain

Pedho pe panchi
Chacha rahe hain
Masti mein banware
Mandra rahe hain
Mandra rahe hain
Kaliyo ke khilne ka
Sama hai suhana
Kaliyo ke khilne ka
Sama hai suhana
Judai ke nagme
Fiza ga rahi hain
Fiza ga rahi hain,
Fiza ga rahi hain
Dur dur kahi isi
Ambar ke niche
Badal se bijli takra rahi hain
Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain

Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Ghata chha rahi hain
Door door kahi isi
Ambar ke niche
Badal se bijli takra rahi hain
Parbat se chan chan ke
Hawa aa rahi hain
Sagar se ban ban ke
Ghata chha rahi hain
Ghata chha rahi hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published.