Phir Wahi Chand Lyrics in Hindi. फिर वही चाँद song from Baarish 1957. It stars Anwar Husain, Dev Anand, Gope, Jagdish, Sethi, Kumkum, Lalita Pawar, Nutan. Singer of Phir Wahi Chand is Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra). Lyrics are written by Rajendra Krishan Music is given by Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)

Song Name : Phir Wahi Chand
Album / Movie : Baarish 1957
Star Cast : Anwar Husain, Dev Anand, Gope, Jagdish, Sethi, Kumkum, Lalita Pawar, Nutan
Singer : Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)
Music Director : Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)
Lyrics by : Rajendra Krishan
Music Label : Saregama Music

Phir Wahi Chand Lyrics in Hindi Baarish 1957

Phir Wahi Chand Lyrics in Hindi :

फिर वही चाँद वही
हम वही तन्हाई है
फिर वही चाँद वही
हम वही तन्हाई है
आज फिर दिल ने मोहब्बत
की कसम खायी है
फिर वही चाँद वही
हम वही तन्हाई है
आज फिर दिल ने मोहब्बत
की कसम खायी है
फिर वही चाँद

दूर दुनिया से कही
भीगी हुई रातों में
दूर दुनिया से कही
भीगी हुई रातों में
दो मोहब्बत भरे दिल
ग़म हैं हसीं बातो में
दो मोहब्बत भरे दिल
ग़म हैं हसीं बातो में
दिल में जो बात है
आँखों में चली आयी है
आज फिर दिल ने मोहब्बत
की कसम खायी है
फिर वही चाँद

यह समुन्दर का किनारा
यह ख़ामोशी का समां
यह समुन्दर का किनारा
यह ख़ामोशी का समां
यह इक कहब मोहब्बत का
इक कहब मोहब्बत का
है इस वक़्त जवान
ना कोई डर है ज़माने
का ना रुस्वाई है

आज फिर दिल ने मोहब्बत
की कसम खायी है
फिर वही चाँद वही
हम वही तन्हाई है
आज फिर दिल ने मोहब्बत
की कसम खायी है
फिर वही चाँद.

Phir Wahi Chand Lyrics in English :

Phir wahi chand wahi
Ham wahi tanhayi hai
Phir wahi chand wahi
Ham wahi tanhayi hai
Aaj phir dil ne mohabbat
Ki kasam khayi hai
Phir wahi chand wahi
Ham wahi tanhayi hai
Aaj phir dil ne mohabbat
Ki kasam khayi hai
Phir wahi chand

Dur duniya se kahi
Bhigi huyi rato me
Dur duniya se kahi
Bhigi huyi rato me
Do mohabbat bhare dil
Gham hain hasin bato me
Do mohabbat bhare dil
Gham hain hasin bato me
Dil me jo bat hai
Aankho me chali aayi hai
Aaj phir dil ne mohabbat
Ki kasam khayi hai
Phir wahi chand

Yeh samundar ka kinara
Yeh khamoshi ka sama
Yeh samundar ka kinara
Yeh khamoshi ka sama
Yeh ik khab mohabbat ka
Ik khab mohabbat ka
Hai iss waqt jawan
Naa koyi dar hai jamane
Ka naa ruswayi hai

Aaj phir dil ne mohabbat
Ki kasam khayi hai
Phir wahi chand wahi
Ham wahi tanhayi hai
Aaj phir dil ne mohabbat
Ki kasam khayi hai
Phir wahi chand.

Leave a Reply

Your email address will not be published.