Qaid Mein Hai Bulbul Lyrics in Hindi. क़ैद में है बुलबुल song from Bedard Zamana Kya Jane. It stars Ashok Kumar, Nirupa Roy, Pran, Helen, Iftekhar, Jabeen Jalil, Ratnamala, Amirbai Karnataki, Sudesh Kumar, Shaikh. Singer of Qaid Mein Hai Bulbul is Lata Mangeshkar. Lyrics are written by Bharat Vyas Music is given by Kalyanji Virji Shah

Song Name : Qaid Mein Hai Bulbul
Album / Movie : Bedard Zamana Kya Jane
Star Cast : Ashok Kumar, Nirupa Roy, Pran, Helen, Iftekhar, Jabeen Jalil, Ratnamala, Amirbai Karnataki, Sudesh Kumar, Shaikh
Singer : Lata Mangeshkar
Music Director : Kalyanji Virji Shah
Lyrics by : Bharat Vyas
Music Label : Saregama

Qaid Mein Hai Bulbul Lyrics in Hindi Bedard Zamana Kya Jane

Qaid Mein Hai Bulbul Lyrics in Hindi :

मजबूर हु के तेरी महफ़िल में आ गए है
मुश्किल यही अब तो मुश्किल में आ गए है
कैद में है बुलबुल सैय्यद मुस्कुराये
कैद में है बुलबुल सैय्यद मुस्कुराये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल सैय्यद मुस्कुराये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल

कैसी है दुनिआ कैसी रीत है
आन्ह्को में आसू होठों पे गीत है
कैसी है दुनिआ कैसी रीत है
आन्ह्को में आसू होठों पे गीत है
झाँके रे पायल दिल है घायल
ज़ालिम ज़माने क्या तेरी यही जेट है
बागबान के हाथों में
बागबान के हाथों में काली कुलनाये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल सैय्यद मुस्कुराये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल

धोखे फरेब का पर्दा डाले
लाखो छुपे यहाँ भरे काले
धोखे फरेब का पर्दा डाले
लाखो छुपे यहाँ भरे काले
प्यासे लबों पर जहरी प्याले
कोई कहाँ तक खुद को संभाले
मेहंदी रचे पावो में
मेहंदी रचे पावो में एकटा चुभा जाये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल सैय्यद मुस्कुराये
कहा भी न जाये चुप रहा भी न जाये
कैद में है बुलबुल.

Qaid Mein Hai Bulbul Lyrics in English :

Majbur hu ke teri mahfil me aa gaye hai
Muskil yahi ab to muskil me aa gaye hai
Kaid me hai bulbul saiyyad muskuraye
Kaid me hai bulbul saiyyad muskuraye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul saiyyad muskuraye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul

Kaisi hai dunia kaisi reet hai
Aanhko me aasu hotho pe geet hai
Kaisi hai dunia kaisi reet hai
Aanhko me aasu hotho pe geet hai
Jhanke re payal dil hai ghayal
Jalim jamane kya teri yahi jet hai
Bagban ke hatho me
Bagban ke hatho me kali kulanaye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul saiyyad muskuraye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul

Dhokhe fareb ka parda dale
Lakho chupe yaha bhawre kale
Dhokhe fareb ka parda dale
Lakho chupe yaha bhawre kale
Pyase labo par jahri pyale
Koi kaha tak khud ko sambhale
Mehandi rache pawo me
Mehandi rache pawo me akta chubha jaye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul saiyyad muskuraye
Kaha bhi na jaye chup raha bhi na jaye
Kaid me hai bulbul.

Leave a Reply

Your email address will not be published.