Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin Lyrics in Hindi. सर े राह कुछ भी कहा नहीं song from Betaabiyan 1980. It stars null. Singer of Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin is Talat Aziz. Music is given by Talat Aziz

Song Name : Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin
Album / Movie : Betaabiyan 1980
Star Cast : null
Singer : Talat Aziz
Music Director : Talat Aziz
Music Label : Saregama

Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin Lyrics in Hindi Betaabiyan 1980

Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin Lyrics in Hindi :

सर े राह कुछ भी कहा नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं
कभी उसके घर में गया नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं
कभी उसके घर में गया नहीं
मैं जनम जनम से उसी का हुन
मैं जनम जनम से उसी का हुन
उसे आज तक यह पता नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं

यह खुदा की देन अजीब है
क्यूँ उसी का नाम नसीब है
यह खुदा की देन अजीब है
क्यूँ उसी का नाम नसीब है
जिसे तूने चाहा वो मिल गया
जिसे तूने चाहा वो मिल गया
जिसे मैंने चाहा मिला नहीं
जिसे तूने चाहा वो मिल गया
जिसे मैंने चाहा मिला नहीं
मैं जनम जनम से उसी का हुन
मैं जनम जनम से उसी का हुन
उसे आज तक यह पता नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं
उसे पा के नज़रो से चूमना
उनकी इबादतों में शुमार है
उसे पा के नज़रो से चूमना
उनकी इबादतों में शुमार है
कोई फूल लाख क़रीब हो]
कोई फूल लाख क़रीब हो
कभी मैंने उसको छुआ नहीं
कोई फूल लाख क़रीब हो
कभी मैंने उसको छुआ नहीं
मैं जनम जनम से उसी का हुन
मैं जनम जनम से उसी का हुन
उसे आज तक यह पता नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं

इसी शहर में कई साल से
मेरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ है
इसी शहर में कई साल से
मेरे कुछ क़रीबी अज़ीज़ है
उन्हें मेरी कोई खबर नहीं
उन्हें मेरी कोई खबर नहीं
मुझे उनका कोई पता नहीं
उन्हें मेरी कोई खबर नहीं
मुझे उनका कोई पता नहीं
मैं जनम जनम से उसी का हुन
मैं जनम जनम से उसी का हुन
उसे आज तक यह पता नहीं
सर े राह कुछ भी कहा नहीं नहीं.

Sar E Raah Kuchh Bhi Kaha Nahin Lyrics in English :

Sar e raah kuchh bhi kaha nahin
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin
Kabhi uske ghar mein gaya nahi
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin
Kabhi uske ghar mein gaya nahi
Main janam janam se usi ka hun
Main janam janam se usi ka hun
Use aaj tak yeh pata nahi
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin

Yeh khuda ki den ajeeb hai
Kyun usi ka naam naseeb hai
Yeh khuda ki den ajeeb hai
Kyun usi ka naam naseeb hai
Jise tune chaha wo mil gaya
Jise tune chaha wo mil gaya
Jise maine chaha mila nahi
Jise tune chaha wo mil gaya
Jise maine chaha mila nahi
Main janam janam se usi ka hun
Main janam janam se usi ka hun
Use aaj tak yeh pata nahi
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin
Use paa ke nazaro se chumna
Unki ibaadto mein shumaar hai
Use paa ke nazaro se chumna
Unki ibaadto mein shumaar hai
Koi phool laakh qareeb ho]
Koi phool laakh qareeb ho
Kabhi maine usko chhua nahi
Koi phool laakh qareeb ho
Kabhi maine usko chhua nahi
Main janam janam se usi ka hun
Main janam janam se usi ka hun
Use aaj tak yeh pata nahi
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin

Isi shehar mein kai saal se
Mere kuchh qareebi aziz hai
Isi shehar mein kai saal se
Mere kuchh qareebi aziz hai
Unhe meri koi khabar nahi
Unhe meri koi khabar nahi
Mujhe unka koi pata nahi
Unhe meri koi khabar nahi
Mujhe unka koi pata nahi
Main janam janam se usi ka hun
Main janam janam se usi ka hun
Use aaj tak yeh pata nahi
Sar e raah kuchh bhi kaha nahin nahin.

Leave a Reply

Your email address will not be published.