Tum Maa Ho Lyrics in Hindi. तुम माँ हो song from Babar. It stars Jagirdar, Azra, Shobha Khote, Sulochana Choudhary. Singer of Tum Maa Ho is Sudha Malhotra. Lyrics are written by Sahir Ludhianvi Music is given by Roshanlal Nagrath (Roshan)

Song Name : Tum Maa Ho
Album / Movie : Babar
Star Cast : Jagirdar, Azra, Shobha Khote, Sulochana Choudhary
Singer : Sudha Malhotra
Music Director : Roshanlal Nagrath (Roshan)
Lyrics by : Sahir Ludhianvi
Music Label : Saregama

Tum Maa Ho Lyrics in Hindi :

दुःख सहके जो सुख पहुंचाती है
उस ममता को रुसवा न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो
दुःख सहके जो सुख पहुंचाती है
उस ममता को रुसवा न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो
तुम माँ हो
तुम्ही से इंसान को
ये जिस्म मिला
और जान मिली

नेकी की चलन ईमान की लगन
सच्चाई की पहचान मिली
कुदरत ने दिया है जो रुतबा
उस रुतबे को नीचा न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो
तुम माँ हो
तुम्हारे क़दमों में
जन्नत की बहारें पलटीं हैं
साहिल गुलशन मिलते है
तहज़ीब की शमाएं जलती हैं
इस घर का उजाला मत छीनो
इस डाली को सूना न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो

तुम माँ हो
तुम्हे इस दुनिया में
जानों की हिफाज़त करना है
ठुकराके हर एक खुदगर्ज़ी को
इंसानों की खितमत करना है
तुम नस्लों की खेती सींचती हो
तुम जानों का सौदा न करो
तुम माँ हो
तुम ऐसा न करो
तुम अच्छी तरह पहचानती हो
औलाद का ग़म क्या होता है
ये तीर सितम क्या होता है
ये क्या होता है
हर माँ का तुमको दर्द.

Tum Maa Ho Lyrics in English :

Dukh sahke jo sukh pahunchaati hai
Us mamta ko ruswaa na karo
Tum maa ho, tum maa ho
Tum aisa na karo
Tum maan ho
Tum aisa na karo
Dukh sahke jo sukh pahunchaati hai
Us mamta ko ruswaa na karo
Tum maa ho, tum maa ho
Tum aisa na karo
Tum maa ho
Tumhi se insaan ko
Ye jism milaa
Aur jaan mili

Neki ki chalan imaan ki lagan
Sachhaayi ki pehchaan mili
Kudrat ne diyaa hai jo rutba
Us rutbe ko neechha na karo
Tum maa ho, tum maa ho
Tum aisa na karo
Tum maa ho
Tumhaare qadmon mein
Jannat ki bahaaren paltin hain
Saahil gulshan milte hai
Tehzeeb ki shamaayen jalti hain
Is ghar ka ujalaa mat chheeno
Is daali ko soonaa na karo
Tum maa ho, tum maa ho
Tum aisa na karo

Tum maa ho
Tumhe is duniya mein
Jaanon ki hifaazat karna hai
Thukraake har ek khudgarzi ko
Insaanon ki khitmat karna hai
Tum naslon ki kheti seenchti ho
Tum jaanon ka saudaa na karo
Tum maa ho, tum maa ho
Tum aisa na karo
Tum achhi tarah pehchaanti ho
Aulaad ka gham kya hota hai
Ye teer sitam kya hotaa hai
Ye kya hotaa hai
Har maan ka tumko dard.

Leave a Reply

Your email address will not be published.