Ye Duniya Wo Duniya Hai Lyrics in Hindi. ये दुनिया ओ दुनिया है song from Bhavna. It stars Dev Kumar, Sonia Sahni, Padma Khanna, Dev Dutt, Sajjan. Singer of Ye Duniya Wo Duniya Hai is Mohammed Rafi. Lyrics are written by Naqsh Lyallpuri Music is given by Jaidev Verma

Song Name : Ye Duniya Wo Duniya Hai
Album / Movie : Bhavna
Star Cast : Dev Kumar, Sonia Sahni, Padma Khanna, Dev Dutt, Sajjan
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Jaidev Verma
Lyrics by : Naqsh Lyallpuri
Music Label : Saregama

Ye Duniya Wo Duniya Hai Lyrics in Hindi Bhavna

Ye Duniya Wo Duniya Hai Lyrics in Hindi :

ये दुनिया ओ दुनिया है जहां
इंसान की कीमत कुछ भी नहीं
मजबूर की चाहत कुछ भी नहीं
मुफ्लिश की शराफ़त कुछ भी नहीं
बस झूठ है और मकारी है बस झूठ है
बस झूठ है और मकारी है
सचाई साज़कात कुछ भी नहीं
जी चाहता है इस दुनिया को
जी चाहता है इस दुनिया को
मई हँसते हँसते ठुकरा दू
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को हँसते हँसते

ए ऐसा गुल्शन है जिसमे
कलियों की चिताएं जलती है
शबनम के शिशकते है आँसू
बुलबुल की सदाएं जलती है
रोता है प्यार बहरो का रोता है
रोता है प्यार बहरो का
फूलो की वफाये जलती है
इस गुलशन में सब जलते है
इस गुलशन में सब जलते है
बचने की सूरत कुछ भी नहीं
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को मैं हँसते
हँसते ठुकरा दू
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को हँसते हँसते

हर धरम यहाँ का पैसा है
इमां यहाँ का पैसा है
भगवन यहाँ का पैसा है
गीता भी यहाँ की पैसा है पैसा
गीता भी यहाँ की पैसा है
क़ुरान यहाँ का पैसा है
दुनिया की हकीकत पैसा है
दुनिया की हकीकत पैसा है
पैसे की हक़ीक़त कुछ भी नहीं
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को मैं हँसते
हँसते ठुकरा दू
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को मैं हँसते
हँसते ठुकरा दू
जी चाहता है जी चाहता है
इस दुनिया को मैं हँसते
हँसते ठुकरा दू.

Ye Duniya Wo Duniya Hai Lyrics in English :

Ye duniya wo duniya hai jaha
Insan ki kimat kuch bhi nahi
Majbur ki chahat kuch bhi nahi
Muflish ki sharafat kuch bhi nahi
Bas jhut hai aur makari hai bas jhut hai
Bas jhut hai aur makari hai
Sachayi sazakat kuch bhi nahi
Ji chahata hai is duniya ko
Ji chahata hai is duniya ko
Mai hanste hanste thukra du
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko hanste hanste

Aye aisa gulshan hai jisme
Kaliyo ki chitaye jalti hai
Shabnam ke shishkate hai aansu
Bulbul ki sadaye jalti hai
Rota hai pyar bahro ka rota hai
Rota hai pyar bahro ka
Phulo ki wafaye jalti hai
Is gulshan me sab jalte hai
Is gulshan me sab jalte hai
Bachne ki surat kuch bhi nahi
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko main hanste
Hanste thukra du
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko hanste hanste

Har dharam yaha ka paisa hai
Iman yaha ka paisa hai
Bhagwan yaha ka paisa hai
Gita bhi yaha ki paisa hai paisa
Gita bhi yaha ki paisa hai
Kuran yaha ka paisa hai
Duniya ki hakikat paisa hai
Duniya ki hakikat paisa hai
Paise ki hakikat kuch bhi nahi
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko main hanste
Hanste thukra du
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko mai hanste
Hanste thukra du
Ji chahata hai ji chahata hai
Is duniya ko main hanste
Hanste thukra du.

Leave a Reply

Your email address will not be published.