Yeh Bezuban Log Bhi Lyrics in Hindi. यह बेज़ुबान लोग भी song from Badnaam. It stars null. Singer of Yeh Bezuban Log Bhi is Mohammed Aziz. Lyrics are written by Sameer Music is given by Ajay Swami

Song Name : Yeh Bezuban Log Bhi
Album / Movie : Badnaam
Star Cast : null
Singer : Mohammed Aziz
Music Director : Ajay Swami
Lyrics by : Sameer
Music Label : T-Series

Yeh Bezuban Log Bhi Lyrics in Hindi Badnaam

Yeh Bezuban Log Bhi Lyrics in Hindi :

यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
कोई जाके उनसे केहड़े
पत्थर भी बोलते हैं

यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
कोई जाके उनसे केहड़े
कोई जाके उनसे केहड़े
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं

ये जुल्मो सितम आखिर
कब तक सहेगा कोई
बेरहमों की बस्ती में
कब तक रहेगा कोई
हैं खून से भी महगा
मजदूर का पसीना
पानी न संजो इस को
अनमोल ये नगीना
अनमोल ये नगीना
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
कोई जाके उनसे केहड़े
कोई जाके उनसे केहड़े
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं

सीता का दिया दर्जा
मरियम कभी बनाया
नारी को देवी बनके
हमने कभी भुलाया
इतनी बदल गयी अब
वह सभ्यता हमारी
सब कुछ लूटके सूली पे
लटकी है आज नारी
लटकी है आज नारी
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
कोई जाके उनसे केहड़े
कोई जाके उनसे केहड़े
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं

ीं आग की लपटों में
अरमान झेल रहे हैं
कहने को हैं जिन्दा पर
इंसान झेल रहे हैं
मझ्बुरीओ का सौदा
बेबस पे ताने साहि
अन्धेर हैं ये कैसा
ये किसी हैं तबाही
ये किसी हैं तबाही
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
कोई जाके उनसे केहड़े
कोई जाके उनसे केहड़े
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं

खामोश पत्थरो से
आवाज़ देखो आई
ज़हलीम का झुलम हारा और
जीती हैं सचाई
यह बेज़ुबान लोग भी
झुबां खोलते हैं
जहलमो से जाकर कह दो के
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं
पत्थर भी बोलते हैं.

Yeh Bezuban Log Bhi Lyrics in English :

Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Koi jaake unse kehde
Patthar bhi bolte hain

Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Koi jaake unse kehde
Koi jaake unse kehde
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain

Ye zulmo seetam aakhir
Kab tak sahega koi
Berehamo ki basti mein
Kab tak rahega koi
Hain khoon se bhi mahega
Majdoor ka paseena
Paani na samjo is ko
Anmol ye nageena
Anmol ye nageena
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Koi jaake unse kehde
Koi jaake unse kehde
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain

Seeta ka diya darja
Mariyam kabhi banaya
Naari ko devi banake
Humne kabhi bhulaya
Itani badal gayi ab
Woh sabhyta hamari
Sab kuch lutake suli pe
Latki hai aaj naari
Latki hai aaj naari
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Koi jaake unse kehde
Koi jaake unse kehde
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain

Iin aag ki lapto mein
Armaan jhal rahein hain
Kehne ko hain zeenda par
Insaan jhal rahein hain
Majhburio ka sauda
Bebas pe taana saahi
Andher hain ye kaisa
Ye kisi hain tabaahi
Ye kisi hain tabaahi
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Koi jaake unse kehde
Koi jaake unse kehde
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain

Khamosh pattharo se
Aawaz dekho aayi
Zhalim ka jhulm haara aur
Jeeti hain sachai
Yeh bezuban log bhi
Jhubaan kholte hain
Zhulmo se jaakar keh do ke
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain
Patthar bhi bolte hain.

Leave a Reply

Your email address will not be published.