Zara Dekh Idhar Lyrics in Hindi. ज़रा देख इधर song from Badshah Salamat 1956. It stars Chandra Shekhar, Amar Nath, Shyama, Bhagwan, B M Vyas. Singer of Zara Dekh Idhar is Geeta Ghosh Roy Chowdhuri (Geeta Dutt), Mohammed Rafi. Lyrics are written by Pyarelal Santoshi Music is given by Bulo C. Rani

Song Name : Zara Dekh Idhar
Album / Movie : Badshah Salamat 1956
Star Cast : Chandra Shekhar, Amar Nath, Shyama, Bhagwan, B M Vyas
Singer : Geeta Ghosh Roy Chowdhuri (Geeta Dutt), Mohammed Rafi
Music Director : Bulo C. Rani
Lyrics by : Pyarelal Santoshi
Music Label : Saregama

Zara Dekh Idhar Lyrics in Hindi Badshah Salamat 1956

Zara Dekh Idhar Lyrics in Hindi :

ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
इन आँखों में चोर भी है
और चोर पकड़ने वाला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर

कब तक मैं छुपाउंगी तुझको
इन लोगो से इस माफ़िल से
दिल दीवाना तो धड़केगा
मजबूर हु मैं अपने दिल से
ये सोच ले खुद भी
हो सकता है मेरे
होठ का कला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर

ये मेरे बदन के जलवे है
जहाँ सूरज रात में निकला है
कोई कहता ये बिजली है
कोई कहता ये शोला है
हर राज कयामत है मेरा
अन्दाज मेरा मतवाला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर

बच के रहना ये रूप
तेरा कोई देख न ले पचन न ले
खाना काली से है
रंग न हट जाये
असली चेहरा कोई जान न ले
नादाँ नहीं जो ताल जाये
वो पीछे आने वाला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर
इन आँखों में चोर भी है
और चोर पकड़ने वाला भी
ज़रा देख इधर मेरी आँखों
का रंग नीला भी है कला भी
ज़रा देख इधर.

Zara Dekh Idhar Lyrics in English :

Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
In aankho mein chor bhi hai
Or chor pakdne vala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar

Kab tak mai chupaungi tujhko
In logo se is mafil se
Dil divana to dhadkega
Majbur hu main apne dil se
Ye soch le khud bhi
Ho sakta hai mere
Hoth ka kala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar

Ye mere badan ke jalve hai
Jaha suraj rat me nikla hai
Koi kahta ye bijali hai
Koi kahta ye shola hai
Har raj kyamat hai mera
Andaj mera matvala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar

Bach ke rahna ye rup
Tera koi dekh na le pachan na le
Khana kali se hai
Rang na hat jaye
Asli chehra koi jan na le
Nadan nahi jo tal jaye
Vo piche aane vala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar
In aankho mein chor bhi hai
Aur chor pakdne vala bhi
Zara dekh idhar meri aankho
Ka rang nila bhi hai kala bhi
Zara dekh idhar.

Leave a Reply

Your email address will not be published.