Zara Nazron Se Keh Do Lyrics in Hindi. ज़रा नज़रों से कह दो song from Bees Saal Baad. It stars Biswajeet, Waheeda Rehman, Madan Puri, Asit Sen. Singer of Zara Nazron Se Keh Do is Hemanta Kumar Mukhopadhyay. Lyrics are written by Shakeel Badayuni Music is given by Hemanta Kumar Mukhopadhyay

Song Name : Zara Nazron Se Keh Do
Album / Movie : Bees Saal Baad
Star Cast : Biswajeet, Waheeda Rehman, Madan Puri, Asit Sen
Singer : Hemanta Kumar Mukhopadhyay
Music Director : Hemanta Kumar Mukhopadhyay
Lyrics by : Shakeel Badayuni
Music Label : Saregama

Zara Nazron Se Keh Do Lyrics in Hindi :

ज़रा नज़रो से कह दो जी
निशाना चूक न जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी
मज़ा जब है तुम्हारी हर
अदा क़ातिल ही कहलाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी
निशाना चूक न जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी

क़ातिल तुम्हे पुकारूँ के
जाने वफ़ा कहूं
हैरत में पड़ गया हूँ
के मैं तुम को क्या कहूँ
ज़माना है तुम्हारा
ज़माना है तुम्हारा
चाहे जिसकी ज़िन्दगी ले लो
अगर मेरा कहा मानो
तो ऐसे खेल न खेला
तुम्हारी इस शरारत से
न जाने किस की मौत आए
ज़रा नज़रो से कह दो जी
निशाना चूक न जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी

है
तुमको ज़ालिम कहे वो झूठा है
ये भोलापन तुम्हारा
ये भोलापन तुम्हारा ये
शरारत और ये शोख़ी
ज़रूरत क्या तुम्हे
तलवार की तिरो की खजर की
ये भोलापन तुम्हारा ये
शरारत और ये शोख़ी
ज़रूरत क्या तुम्हे
तलवार की तिरो की खजर की
नज़र भर के जिसे तुम
देख लो वो खुद ही मर जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी
निशाना चूक न जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी

हम पे क्यों इस क़दर बिगडती हो
छेड़ने वाले तुमको और भी है
बहारो पर करो गुस्सा
उलझती है जो आँखों से
हवाओं पर करो गुस्सा जो
टकराती है ज़ुल्फो से
कही ऐसा न हो कोई
तुम्हारा दिल भी ले जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी
निशाना चूक न जाए
ज़रा नज़रो से कह दो जी.

Zara Nazron Se Keh Do Lyrics in English :

Zara nazaro se kah do ji
Nishana chuk na jaae
Zara nazaro se kah do ji
Maza jab hai tumhaari har
Adaa qaatil hi kahalaae
Zara nazaro se kah do ji
Nishana chuk na jaae
Zara nazaro se kah do ji

Qaatil tumhe pukaarun ke
Jaane vafaa kahun
Hairat me pad gayaa hun
Ke mai tum ko kyaa kahun
Zamana hai tumhara
Zamana hai tumhara
Chaahe jisaki zindagi le lo
Agar meraa kahaa maano
To aise khel na khelo
Tumhaari is sharaarat se
Na jaane kis ki maut aae
Zara nazaro se kah do ji
Nishana chuk na jaae
Zara nazaro se kah do ji

Haay, kitani maasum lag rahi ho tum
Tumako zaalim kahe wo jhuthaa hai
Ye bholapan tumhara
Ye bholapan tumhara ye
Sharaarat aur ye shokhi
Zarurat kyaa tumhe
Talavaar ki tiro ki khajar ki
Ye bholapan tumhara ye
Sharaarat aur ye shokhi
Zarurat kyaa tumhe
Talavaar ki tiro ki khajar ki
Nazar bhar ke jise tum
Dekh lo wo khud hi mar jaae
Zara nazaro se kah do ji
Nishana chuk na jaae
Zara nazaro se kah do ji

Ham pe kyo is qadar bigadati ho
Chhedane vaale tumako aur bhi hai
Bahaaro par karo gussa
Ulajhati hai jo aankho se
Hawao par karo gussa jo
Takaraati hai zulfo se
Kahi aisaa na ho koi
Tumhara dil bhi le jaae
Zara nazaro se kah do ji
Nishana chuk na jaae
Zara nazaro se kah do ji.

Leave a Reply

Your email address will not be published.