Title : ऐसे तो न देखो
Movie/Album/Film: तीन देवियाँ -1965
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics : मजरूह सुल्तानपुरी
Singer(s): मो.रफ़ी

ऐसे तो न देखो, के हमको नशा हो जए
ख़ूबसूरत सी कोई हमसे ख़ता हो जाए
ऐसे तो न देखो

तुम हमें रोको फिर भी हम ना रुकें
तुम कहो काफ़िर फिर भी ऐसे झुकें
क़दम-ए-नाज़ पे इक सजदा अदा हो जाये
ऐसे तो न देखो…

यूँ न हो आँखे रहें काजल घोलें
बढ़के बेखुदी हंसीं गेसू खोलें
खुल के फिर ज़ुल्फ़ें सियाह काली बला हो जाये
ऐसे तो न देखो…

हम तो मस्ती में जाने क्या-क्या कहें
लब-ए-नाज़ुक से ऐसा न हो तुम्हें
बेक़रारी का गिला हमसे सिवा हो जाये
ऐसे तो न देखो…

See also  Jaise Suraj Ki Garmi Lyrics-Sharma Bandhu, Parinay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *