Title : छलकाए जाम
Movie/Album/Film: मेरे हमदम मेरे दोस्त -1968
Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
Lyrics : मजरुह सुलतानपुरी
Singer(s): मो.रफी

छलकाए जाम
आईये आप की
आँखों के नाम
होठों के नाम

फूल जैसे तन पे जलवे ये रंग-ओ-बू के
आज जाम-ए-मय उठे इन होठों को छू के
लचकाईये शाख-ए-बदन, महकाईये जुल्फों की शाम
छलकाए जाम…

आप ही का नाम लेकर पी है सभी ने
आप पर धड़क रहे हैं, प्यालों के सीने
यहाँ अजनबी कोई नहीं, ये है आप की महफ़िल तमाम
छलकाए जाम…

कौन हर किसी की बाहें बाहों में डाले
जो नज़र नशा पिलाए, वो ही संभाले
दुनिया को हो औरों की धुन, हम को तो है साकी से काम
छलकाए जाम…

See also  Humne Dekhi Hai Un Aankhon Ki -Lata Mangeshkar, Khamoshi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *