Title : न जा कहीं अब न जा
Movie/Album/Film: मेरे हमदम मेरे दोस्त -1968
Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
Lyrics : मजरूह सुल्तानपुरी
Singer(s): मो. रफ़ी

न जा, कहीं अब न जा
दिल के सिवा
है यही दिल, कूचा तेरा
ऐ मेरे हमदम, मेरे दोस्त
न जा कहीं…

बेसबब उड़ेगी हरसू
तेरे पैरहन की खुशबू
इधर तो आ, संवार दूं
खुले-खुले ये गेसू
वफ़ा देती है सदा
न जा कहीं…

आके खून-ए-दिल मिला के
भर दूँ इन लबों के खाके
बुझा-बुझा बदन तेरा
कँवल-कँवल बना के
खिला दूँ रंग-ए-हिना
न जा कहीं…

आज शहर-ए-दिल में चलकर
सूरत-ए-चराग़ जलकर
इसी झुकी हुई नज़र
के काजल से दिल पर
लिखे आ नाम-ए-वफ़ा
न जा कहीं…

See also  Ek Ek Aankh Teri -Rafi, Asha, Mitti Mein Sona

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *