Title : न किसी की आँख का नूर हूँ
Movie/Album/Film: लाल किला -1960
Music By: एस.एन.त्रिपाठी
Lyrics : मुज़्तर ख़ैराबादी
Singer(s): मो.रफ़ी

न किसी की आँख का नूर हूँ, न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके, मैं वो एक मुश्त-ए-ग़ुबार हूँ

न तो मैं किसी का हबीब हूँ, न तो मैं किसी का रक़ीब हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ, जो उजड़ गया वो दयार हूँ
न किसी की आँख का…

मेरा रंग रूप बिगड़ गया, मेरा यार मुझसे बिछड़ गया
जो चमन ख़िज़ां से उजड़ गया, मैं उसी की फ़स्ल-ए-बहार हूँ
न किसी की आँख का…

पए-फ़ातेहा कोई आये क्यूँ, कोई चार फूल चढ़ाये क्यूँ
कोई आ के शम्मा जलाये क्यूँ, मैं वो बेकसी का मज़ार हूँ
न किसी की आँख का…

See also  Mohabbat Aisi Dhadkan Hai Lyrics - Anarkali (1953)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *