Title : न तू ज़मीं के लिए
Music/Album- दास्तान Lyrics-1970
Music By- लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics- साहिर लुधियानवी
Singer(s)- मो.रफ़ी

न तू ज़मीं के लिए
है न आसमां के लिए
तेरा वजूद है
अब दास्ताँ के लिए

पलट के सु-ए-चमन
देखने से क्या होगा
वो शाख ही ना रही
जो थी आशियाँ के लिए
ना तू ज़मीं…

गरज परस्त जहां में
वफ़ा तलाश न कर
ये शय बनी थी किसी
दूसरे जहां के लिए
तेरा वजूद..

See also  Yaara O Yaara Lyrics-Narendra Chanchal, Benaam

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *