Title : ओ महबूबा
Movie/Album/Film: संगम -1964
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics : हसरत जयपुरी
Singer(s): मुकेश

ओ महबूबा
तेरे दिल के पास ही है मेरी मंज़िल-ए-मक़्सूद
वो कौन सी महफ़िल है जहाँ तू नहीं मौजूद
ओ महबूबा…

किस बात से नाराज़ हो, किस बात का है ग़म
किस सोच में डूबी हो तुम, हो जायेगा संगम
ओ महबूबा…

गुज़रूँ मैं इधर से कभी, गुज़रूँ मैं उधर से
मिलता है हर इक रासता, जा कर तेरे दर से
ओ महबूबा…

बाहों के तुझे हार मैं पहनाऊँगा इक दिन
सब देखते रह जायेंगे, ले जाऊँगा इक दिन
ओ महबूबा…

See also  Kehta Hai Joker Lyrics-Mukesh, Mera Naam Joker

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *