Title- रुक जाना नहीं
Movie/Album- इम्तिहान Lyrics-1974
Music By- लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics- मजरूह सुल्तानपुरी
Singer(s)- किशोर कुमार

रुक जाना नहीं तू कहीं हार के
काँटों पे चल के मिलेंगे साये बहार के
ओ राही, ओ राही

सूरज देख रुक गया है
तेरे आगे झुक गया है
जब कभी ऐसे कोई मस्ताना
निकले है अपनी धुन में दीवाना
शाम सुहानी बन जाते हैं दिन इंतज़ार के
ओ राही, ओ राही…

साथी न कारवां है
ये तेरा इम्तिहां है
यूँ ही चला चल दिल के सहारे
करती है मंज़िल तुझको इशारे
देख कहीं कोई रोक नहीं ले तुझको पुकार के
ओ राही, ओ राही…

नैन आँसू जो लिये हैं
ये राहों के दीये हैं
लोगों को उनका सब कुछ दे के
तू तो चला था सपने ही ले के
कोई नहीं तो तेरे अपने हैं सपने ये प्यार के
ओ राही, ओ राही…

See also  Dulhan Chali, Haan Pehen Chali Lyrics-Mahendra Kapoor, Purab Aur Paschim

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *