Title : सांझ ढली दिल की लगी
Movie/Album/Film: काला बाज़ार -1960
Music By: एस.डी.बर्मन
Lyrics : शैलेन्द्र
Singer(s): आशा भोंसले, मन्ना डे

साँझ ढली दिल की लगी, थक चली पुकार के
आजा, आजा, आ भी जा
क्या दू तुझे पहले से मैं, बैठी हूँ दिल हार के
जा जा जा जा, जा तू जा

ज़िद पे आ गया है दिल के आज यूँ ना लौटना
मेरी सुनो लौट जाओ, छोड़ दो ये बचपन
चार दिन की जिंदगी में दिन है दो बहार के
आजा, आजा.. ..

कैसे कहू, कैसी उलझनों में मेरी जान है
हा को ना समझ गये, ये प्यार की ज़ुबांन है
काटने हैं हमको दिन किसी के इंतजार के
जा जा जा जा, जा तू जा

सुन तो ले के मेरे दिल का तुझसे क्या सवाल है
कुछ ना कर सकूँगी मैं किसी का तो मलाल है
दिल ना तोड़, चाहे बोल दो ही बोल प्यार के
आजा, आजा.. ..

Leave a Reply

Your email address will not be published.