Ye Raat Bheegi Bheegi Lyrics-Lata Mangeshkar, Manna Dey, Chori Chori–ये रात भीगी-भीगी

Movie/Album: चोरी चोरी (1956)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: लता मंगेशकर, मन्ना डे

ये रात भीगी-भीगी, ये मस्त फिज़ायें
उठा धीरे-धीरे, वो चाँद प्यारा प्यारा
क्यों आग सी लगा के, गुमसुम हैं चांदनी
सोने भी नहीं देता, मौसम का ये इशारा
ये रात भीगी-भीगी…

इठलाती हवा, नीलम सा गगन
कलियों पे ये बेहोशी की नमी
ऐसे में भी क्यों बेचैन है दिल
जीवन में ना जाने क्या है कमी
ये रात भीगी-भीगी…

जो दिन के उजाले में ना मिला
दिल ढूँढें ऐसे सपने को
इस रात की जगमग में डूबी
मैं ढूँढ रही हूँ अपने को
ये रात भीगी-भीगी…

ऐसे में कहीं क्या कोई नहीं
भूले से जो हमको याद करे
एक हलकी सी मुसकान से जो
सपनों का जहां आबाद करे
ये रात भीगी-भीगी…

See also  Karvatein Badalte Rahe Lyrics-Lata Mangeshkar, Kishore Kumar, Aap Ki Kasam

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *