Title ~ बाहों के दरमियाँ Lyrics
Movie/Album ~ खामोशी Lyrics- द म्यूज़िकल Lyrics- 1996
Music ~ जतिन -ललित
Lyrics ~ मजरूह सुल्तानपुरी
Singer (s)~अलका याग्निक, हरिहरन

बाहों के दरमियाँ, दो प्यार मिल रहे है
जाने क्या बोले मन, डोले सुनके बदन
धड़कन बनी ज़ुबां

खुलते बंद होते, लबों की ये अनकही
मुझसे कह रही हैं के बढ़ने दे बेखुदी
मिल यूँ के दौड़ जाएँ, नस नस में बिजलियाँ
बाहों के दरमियाँ…

आसमां को भी ये, हसीं राज है पसंद
उलझी उलझी साँसों की, आवाज है पसंद
मोती लूटा रही है, सावन की बदलियाँ
बाहों के दरमियाँ…

See also  Jab Kabhi Lyrics Kunal Ganjawala, Alka Yagnik, 36 China Town

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *