Title : छा गया बादल Lyrics
Movie/Album/Film: चित्रलेखा Lyrics-1964
Music By: रोशन
Lyrics : साहिर लुधियानवी
Singer(s): मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले

छा गये बादल नील गगन पर
घुल गया कजरा सांझ ढले

देख के मेरा मन बेचैन
रैन से पहले हो गई रैन
आज हृदय के स्वप्न फले
घुल गया कजरा…

रूप की संगत और एकान्त
आज भटकता मन है शान्त
कह दो समय से थम के चले
घुल गया कजरा…

अंधियारों की चादर तान
एक होंगे दो व्याकुल प्राण
आज न कोई दीप जले
घुल गया कजरा…

See also  Tere Mere Saath Lucky Ali, Aks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *