Title~ दुनिया Lyrics
Movie/Album~ गुलाल Lyrics 2009
Music~ पियूष मिश्रा
Lyrics~ पियूष मिश्रा
Singer(s)~ पियूष मिश्रा

ओ री दुनिया

सुरमई आँखों के प्यालों की दुनिया
सतरंगी रंगों गुलालों की दुनिया..ओ दुनिया
अलसाई सेजों के फूलों की दुनिया
अंगड़ाई तोड़े कबूतर की दुनिया

करवट ले सोयी हक़ीक़त की दुनिया
दीवानी होती तबीयत की दुनिया
ख्वाहिश में लिपटी ज़रुरत की दुनिया
इन्सां के सपनों की नीयत की दुनिया..ओ दुनिया

ओ री दुनिया
ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है…

ममता की बिखरी कहानी की दुनिया
बहनों की सिसकी जवानी की दुनिया
आदम के हव्वा से रिश्ते की दुनिया
शायर के फ़ीके लफ़्ज़ों की दुनिया

ग़ालिब के, मोमिन के, ख़्वाबों की दुनिया
मजाज़ों के उन इन्कलाबों की दुनिया
फैज़ फिराक ओ साहिर ओ मखदूम
मीर की ज़ौक की दागों की दुनिया

ये दुनिया अगर…

पल छीन में बातें चली जाती हैं
पल छीन में रातें चली जाती हैं
रह जाता है जो सवेरा वो ढूंढे
जलते मकां में बसेरा वो ढूंढे

जैसी बची है वैसी की वैसी बचा लो ये दुनिया
अपना समझके अपनों के जैसी उठालो ये दुनिया
छुट पुट सी बातों में जलने लगेगी संभालो ये दुनिया…
कट पिट के रातों में पलने लगेगी संभालो ये दुनिया..

ओ री दुनिया…

वो कहे हैं की दुनिया ये इतनी नहीं है
सितारों से आगे जहां और भी है
ये हम ही नहीं हैं वहाँ और भी है
हमारी हर एक बात होती वहीं है

हमें ऐतराज़ नहीं है कहीं भी
वो आलिम हैं फ़ाज़िल हैं होंगे सही ही
मगर फ़लसफ़ा ये बिगड़ जाता है
जो वो कहते हैं

See also  Tumse Hi Mohit Chauhan, Jab We Met

आलिम ये कहता वहाँ इश्वर है
फ़ाज़िल ये कहता वहाँ अल्लाह है
काबुर ये कहता वहाँ इसा है
मंजिल ये कहती तब इंसान से की

तुम्हारी है तुम ही सम्भालों ये दुनिया
ये बुझते हुए चंद बासी चरागों
तुम्हारे ये काले इरादों की दुनिया…

ओ री दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *