Title ~ एक बगिया में Lyrics
Movie/Album ~ सपने Lyrics- 1997
Music ~ ए.आर.रहमान
Lyrics ~ जावेद अख्तर
Singer (s)~शंकर महादेवन, के.एस.चित्रा, श्रीनिवास

एक बगिया में रहती है एक मैना
पूछती है के बोलो क्या है कहना
मेरा रंग हसीं है क्या, मेरा अंग हसीं है क्या
कभी पूछे तो मेरा जवाब यही होगा
ऊ ला ला ला…

एक है रास्ता, रस्ते में गाड़ी
है गाड़ी में है लड़की
मैंने जो पूछा रंग साड़ी का
वो बोली धनक जैसा
रिम झिम बरसे जलती तपती धरती पर जो कभी पानी
उठे धरती से सौंधी सौंधी खुशबुओं की धनकें सुहानी
ऊ ला ला ला…

झूमे जा, झूमे जा, ज़िन्दगी के फल कोई, ये प्यार से चखे तो मीठे हैं
झूमे जा, झूमे जा, पंछियों के सुर कोई, ध्यान से सुने तो मीठे हैं
कानों में, हैं मेरे, सारी दुनिया की आवाजें
उनसे बनी तसवीरें कई
झूमे जा, झूमे जा, राही तू झूमे जा, भूल जा परेशानियां
रिम झिम बरसे जलती तपती धरती पर जो कभी पानी
उठे धरती से सौंधी सौंधी खुशबुओं की धनकें सुहानी
ऊ ला ला ला…
एक बगिया में रहती है एक मैना…

झूमे जा, झूमे जा, जब तक है जीवन में ये सर्दी गर्मी ये हवा
झूमे जा, झूमे जा, दुनिया में हर दिल को है गीत कोई तो मिला
गीतों में है जिनके प्यार सपनों की दुनिया ही
उनको मिलती हैं राहें नयी
झूमे जा, झूमे जा, बादल जो है गरजा, दिल पे बनी परछाइयां
रिम झिम बरसे जलती तपती धरती पर जो कभी पानी
उठे धरती से सौंधी सौंधी खुशबुओं की धनकें सुहानी
ऊ ला ला ला…एक बगिया में रहती है एक मैना…

Leave a Reply

Your email address will not be published.