Title ~ एक शरारत होने को है Lyrics
Movie/Album ~ डुप्लीकेट Lyrics- 1998
Music ~ अनु मलिक
Lyrics ~ जावेद अख्तर
Singer (s)~कविता कृष्णामूर्ति, कुमार सानू

एक शरारत होने को है
एक क़यामत होने को है
होश हमारे खोने को है
हमको मोहब्बत होने को है
ल लाइ ल लाइ ला लाइ…
एक शरारत होने को है…

चलते हैं गाते-गाते, सोचा न जाते-जाते
जायेंगे दोनों हम कहाँ
आँखों में हल्के-हल्के, सपने हैं झलके कल के
सब इश्क़ के हैं ये निशाँ
हो, तुम अब ये मानो, या ना मानो मेरी जाँ
एक शरारत होने को है…

तुम तो हो भोले-भोले, अब तक जो बोले-बोले
आगे ना कहना दास्ताँ
दुनिया में कैसे-कैसे, हैं लोग ऐसे-वैसे
दुश्मन हैं दिल के सब यहाँ
हो, तुम अब ये जानो, या ना जानो मेरी जाँ
एक शरारत होने को है…

See also  Ram Kare Allah Kare Lyrics-Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Amit Kumar, Aap Ke Deewane

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *