Title – लोग हर मोड़ पे Lyrics
Movie/Album- बियॉण्ड टाइम Lyrics-1987
Music By- जगजीत सिंह
Lyrics- राहत इंदौरी
Singer(s)- जगजीत सिंह

लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के सँभलते क्यूँ हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यूँ हैं
लोग हर मोड़ पे…

मैं न जुगनू हूँ, दीया हूँ न कोई तारा हूँ
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यूँ हैं
लोग हर मोड़ पे…

नींद से मेरा त’आल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख़्वाब आ-आ के मेरी छत पे टहलते क्यूँ हैं
लोग हर मोड़ पे…

मोड़ होता है जवानी का, सँभलने के लिए
और सब लोग यहीं आ के फिसलते क्यूँ हैं
लोग हर मोड़ पे…

See also  Kisne Bheege Hue Lyrics- Jagjit Singh, Pankaj Udhas, Visions, Naqoosh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *