Raat Andheri Door Savera Lyrics- Mukesh, Aah

Title : रात अँधेरी दूर सवेरा
Movie/Album: आह (1953)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: मुकेश

रात अँधेरी दूर सवेरा
बरबाद है दिल मेरा हो
रात अँधेरी…

आना भी चाहें, आ ना सके हम
कोई नहीं आसरा
खोई है मंज़िल रस्ता है मुश्किल
चाँद भी आज छुपा, हो
रात अँधेरी…

आह भी रोये, राह भी रोये
सूझे न बाट कोई
थोड़ी उमर है, सूना सफ़र है
मेरा न साथ कोई, हो
रात अँधेरी…

See also  Hoshwalon Ko Khabar Kya Lyrics- Jagjit Singh, Sarfarosh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *