Title – रिश्ते बनते हैं Lyrics
Movie/Album- दिल पड़ोसी है Lyrics-1987
Music By- आर.डी.बर्मन
Lyrics- गुलज़ार
Singer(s)- आशा भोंसले

रिश्ते बनते हैं, बड़े धीरे-से, बनने देते
कच्चे लम्हें को ज़रा शाख़ पे पकने देते
रिश्ते बनते हैं…

एक चिंगारी का उड़ना था कि पर काट दिये
आँच आई थी, ज़रा आग तो जलने देते
कच्चे लम्हें को…

एक ही लम्हें पे इक साथ गिरे थे दोनों
ख़ुद सँभलते या ज़रा मुझको सँभलने देते
कच्चे लम्हें को…

See also  Zulmat Kade Mein Mere Lyrics-Jagjit Singh, Mirza Ghalib

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *