Tan Pe Rang Sakhi Lyrics- Geeta Dutt, Sailaab

Title : तन पे रंग सखी
Movie/Album: सैलाब (1956)
Music By: मुकुल रॉय
Lyrics By: मजरूह सुल्तानपुरी
Performed By: गीता दत्त

तन पे रंग सखी, मन पे रंग सखी
हाय हाय बहार, खिला मन में प्यार
हो फूल हैं खिले, डाल-डाल पर
कली-कली चटक रही है मन की ताल पर
ओ मोर नाचे, बन में चकोर नाचे
नैना में कजरा डारे, घटा घनघोर नाचे
नाचो-नाचो प्रभु के द्वार रे
तन पे रंग सखी…

ओ बसंत का गुलाल, तन पे डाल के
पवन भी आज नाचती है रंग उछाल के
ओ मोर नाचे…
तन पे रंग सखी…

हो लचक पड़ी किरण अंग-अंग पर
गगन को भी नचा दो आज चंद्र-चंद्र पर
ओ मोर नाचे…
तन पे रंग सखी…

See also  Bheja Kum Lyrics Various Artists, Taare Zameen Par

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *