Title -तुझको फुरसत से Lyrics
Movie/Album- आरोही -1982
Music By- आनंद सागर किरण
Lyrics – भरत व्यास
Singer(s)- मुकेश, हेमलता

तुझको फ़ुरसत से विधाता ने रचा
हृदय तुझको क्या दिया है राम ने
चाँद चाहे मुझसे मुखड़ा फेर ले
तू रहे बैठी नज़र के सामने
तुझको फ़ुरसत से…

चाँद तो छाया है तेरे रंग की
शायरों की दाद पा के तन गया
जिसमें निरखा तूने अपने रूप को
वो तेरा दर्पण ही चंदा बन गया
बिन पिलाए ही मुझे बहका दिया
तेरी अँखियों के गुलाबी जाम ने
तुझको फ़ुरसत से…

तुम हो प्रियतम मेरे मन के देवता
मैं तुम्हारे इन चरण की धूल हूँ
तुम हो पूजा तुम मेरी आराधना
मैं तुम्हारी साधना की फूल हूँ
गिर नहीं सकता कोई मझधार में
तुम बढ़ो जिसकी कलाई थामने
तुझको फ़ुरसत से…

See also  Pardesi Pardesi Jaana Nahin Lyrics- Raja Hindustani

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *