Title : तुम कमसिन हो Lyrics
Movie/Album/Film: आई मिलन की बेला Lyrics-1964
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics : हसरत जयपुरी
Singer(s): मो.रफ़ी

तुम कमसिन हो, नादाँ हो, नाज़ुक हो, भोली हो
सोचता हूँ मैं कि तुम्हें प्यार ना करूँ

मदहोश अदा ये अल्हड़पन
बचपन तो अभी रूठा ही नहीं
एहसास है क्या और क्या है तड़प
इस सोच में दिल डूबा ही नहीं
तुम कमसिन हो…

तुम आहें भरो और शिकवे करो
ये बात हमें मंज़ूर नहीं
तुम तारे गिनो और नींद उड़े
वो रात हमें मंज़ूर नहीं
तुम कमसिन हो..

See also  Patthar Ke Sanam Tujhe Humne Lyrics-Md.Rafi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *