Phulkari Hindi Lyrics – Karan Randhawa & Simar Kaur-फुलकारी

Song DETAILS :

Song Title: Phulkari
Singer: Karan Randhawa & Simar Kaur
Lyrics: Karan Randhawa
Music: Raka

FULL LYRICS :

गोल्ड दा कोका इक वे
एक बंदा आए जोड़ा बलियान दा
जड़ों तेरा मान किट्ता ओहदो लाई दी वे
कोई मसला नि जात्ता कलियाँ दा

वे पारियाँ जही नार तेरी वे
रख अल्लहड़ दा सीना वे तू तार के

हो लैयडे फुलकारी जट्टी नू
आजू मिलन बुककल जात्ता मार के
हो लैयडे फुलकारी जट्टी नू
आजू मिलन बुककल जात्ता मार के हन

दो आप लाई ले आया बल्लीए
दो यारा लाई ले आया कल रिफलन
खून वाली फिरे जट्ट खेती कारदा
काहतों प्यार वाली बीज दी आए फासलान

हो प्यार वाली खुल ना देवे
जहदा रखड़ा आए मॅगज़ीन चाड के

असले नाल करे आशिक़ी
जट्ट लोई दी बुककल बिल्लो मार के
असले नाल करे आशिक़ी
जट्ट लोई दी बुककल बिल्लो मार के हन

हो चढ़ड़ी जवानी विच सोहनिए
महनगे पाईं�गे याराने जट्ट नाल नि
हो आईने च तां वायर पहले ही चाल्ड़े
बिल्लो पुच्चेया नि जाना तेरा हाल नि

रंधावएा तू वैरी लाभदे
वे मैं फीरडी आन रूप नू निखार के

असले नाल करे आशिक़ी
जट्ट लोई दी बुककल बिल्लो मार के
असले नाल करे आशिक़ी
जट्ट लोई दी बुककल बिल्लो मार के हन

हो फ़िकरण ने खाली मुटियार वे
जहदे चन्ना फीरडा आए रूड वे
वे तेरे एह गंदसेया नलो
महनगे नह्ीॉ जट्टी दे हाए सूट वे

हो मिचियाल तां कब्बा सोहनिए
बस तेरे लाई शरीफी बैठा तार के

हो लैयडे फुलकारी जट्टी नू
आजू मिलन बुककल जात्ता मार के
असले नाल करे आशिक़ी
जट्ट लोई दी बुककल बिल्लो मार के हन

Leave a Reply

Your email address will not be published.