आग ही आग है
आग ही आग है
तेरी चिता से मेरे मन तक
धरती के सीने से गगन स
आग ही आग है

मैंने सोचा था
दुल्हन बनकर तुझे
प्यार के मोतियों से
सजाकर तुझे
तेरी डोली को कन्धा
लगाये हुए
दूर तक जाउँगा सर
झुकाए हुए
तू न दुल्हन बनी
और न डाली गयी
है लहू में मेरे
आग घोली गयी
आग ही आग है

मेरे होते हुए तेरी इज़्ज़त लूटी
घर से डोली के बदले
में अर्थी उठी
मैं अभागी न दे
पाया कन्धा तुझे
मेरी प्यारी बहन
माफ़ कर दे मुझे
माफ़ कर दे मुझे
माफ़ कर दे मुझे.

आग – आग ही आग है lyrics

Movie/album- आग
Singers- महेंद्र कपूर
Song Lyrics/Lyricis- असद भोपाली
Music Composer- उषा खन्ना
Music Director- उषा खन्ना
Music Label- सारेगामा
Movie Cast/Starring- फिरोज खान
Release on-

See also  किधर मैं जाऊं - ज़िन्दगी और ख्वाब lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *