Ishq Khuda Hai Song Detail

Song : Ishq Khuda Hai Lyrics
Singer : Khushali Kumar, Tulsi Kumar
Music : Sanjay-Rajee
Lyrics : Khushali Kumar

Ishq Khuda Hai Lyrics in Hindi

दो कदम चलने की चाहत थी यूयेसेस रास्ते पर
जिस पर चलने को हाथ थमा था तुमने

लगता था बस यही पहुँचाएगी
मंज़िल-ए-सफ़र तक
खोज पूरी हो गयी
शायद ऐसा एहसास हो गया था

अंदर के दर्द
अभी कुछ देर पहले तक दुख़्ते थे
गिरने वाले तो ना थे हम कभी
गिराने वाले का हुनर तो देखिए
हुँने आ भी करी तो हूमें ही सुनाई ना दी

पिघलते गये उसकी सासों में हर पल
सामने वो था तो हर सब्र खो बैठे
सिर्फ़ चाहा की वो चाहे मुझे इतना
जितना मैने उसको चाहा

हौले से कब हुआ यह
की किसी और का होकर
फिर मेरी ओर देख कर कहा
की कमी है तेरी

हल्की सी मज़ाक बनकर रह गयी खुद्दारी मेरी
अब ना होगा मुझसे यह खेल दुबारा
यह खेल दुबारा

ज़हर वेख के पीटता ते की किट्ता
इश्क़ सोच के किट्ता ते की किट्ता
दिल दे के दिल लाइन दी
आस रखी वे बुल्लेया वे बुल्लेया
प्यार वी लालच नाल किट्ता ते की किट्ता

पर तुम में शायद कुछ ख़ास है
तुम्हारी आखों में बाकचों की सी आस है
तुम्हारे आखों के शीशे में
मेरा चेहरा दिखा है मुझे
मेरे चेहरे की रंगत
क्या खूब दिखती है इनमे
सोचते हैं अब इन्ही में रहेंगे

ज़हर वेख के पीटता ते की किट्ता
इश्क़ सोच के किट्ता ते की किट्ता
दिल दे के दिल लाइन दी
आस रखी वे बुल्लेया वे बुल्लेया
प्यार वी लालच नाल किट्ता ते की किट्ता

See also  सुन फेर Sun Fer Hindi Lyrics – Khan Bhaini

चल ज़िंदगी मैं इश्क़ के
जुएें के लिए फिर तैयार हूँ
सारी बाज़ियाँ तू खेल फिर मुझको मिट्टी में रेल
सब करके देखा इश्क़ में ही च्छूपी इबादत है
वक़्त अगर ज़िंदगी तो इश्क़ खुदा है
हर पल में इश्क़ मिट्टी में इश्क़
हवाओं में और क्या है बाकी

इश्क़ खुदा है
इश्क़ खुदा है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *