चल रही हैं साँसे – ज़िंदा lyrics

चल रही हैं साँसे
बह रहा हैं लहुं
चल रही हैं साँसे
बह रहा हैं लहुं
फिर भी क्यों नहीं लगता
के मैं ज़िंदा हूँ
के मैं ज़िंदा हूँ
के मैं ज़िंदा हूँ
के मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ

सीने में हैं क्यूँ ये
जलन रूह तड़पती हैं क्यों
सीने में हैं क्यूँ ये
जलन रूह तड़पती हैं क्यों
धड़कता दिल पूछता हैं
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ

बातों की खामोशी से
दोस्त की तन्हाई से
भीड़ में अकेला हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
भीड़ में अकेला हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ

ये सुनि अँधेरी बेक़रारी जाना
पेहचाना ढूंढती हैं क्यों
मिटा हुआ नामोनिशान
पूछता हैं
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ
क्या मैं ज़िंदा हूँ.

ज़िंदा – चल रही हैं साँसे lyrics

Movie/album- ज़िंदा
Singers- कैलाश खेर
Song Lyricists- समीर
Music Composer- शेखर रावजिआनी
Music Director- शेखर रावजिआनी
Music Label- टी-सीरीज
Starring/Cast- संजय दत्त
Release on- १२थ जनुअरी

Leave a Reply