बिना सिफारिश मिले नौकरी – आदमी और इंसान lyrics

बिना सिफारिश मिली नौकरी
बिन रिश्वत हो काम
अरे इसी को अन्होनी कहते हैं
इसी का कलजुग नाम

वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम

रिश्वत पर चलते थे चक्कर
छोटे हों या मोठे
बंद हुयी ये रस्म तो
धन्धे हो जायेंगे खोटे रे
धन्धे हो जायेंगे खोते
घर घर में मातम होगा
दफ्तर दफ्तर कोहराम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम

यही चला गर ढँग तो यारों
होंगे बुरे नतीजे
भूखे मरेंगे नेताओं के
बेटे और भतीजे
मरेंगे बेटे और भतीजे
जितनी इज़्ज़त बनी थी अब तक
सब होगी नीलाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम

रिश्वत से मुंह बंद थे सबके
अब फूटेंगे भांडे
अरे पता चलेगा किसके
किसके मिले हुए थे डांडे
कौन सा ठेका लेकर किसने
कितना माल बनाया
कितनी उजरत दी लोगों को
कितना दिल दखलाया
कौन सी फाइल किस दफ्तर से
कैसे हो गयी चोरी
किसने कितनी गद्दारी की
कितनी भरी तिजोरी
किस मिल मालिक के पैसे ने
कितने वोट कमाये
अरे कुर्सी मिली तो
देश भगत ने कितने नोट कमाएं
रिश्वत से ही छुपे हुए
थे सब काले करतूत
नंगे होकर सामने आएंगे
अब सभी सबूत

दुनिया भर के मुल्कों में
होगा भारत बदनाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम
वतन का क्या होगा अंजाम
बचा ले ऐ मौला ऐ राम.

आदमी और इंसान – बिना सिफारिश मिले नौकरी lyrics

Movie/album- आदमी और इंसान
Singers- मुहम्मद रफ़ी
Song Lyrics/Lyricist- साहिर लुधयानवी
Music Composer- रवि शंकर शर्मा (रवि)
Music Director- रवि शंकर शर्मा (रवि)
Music Label- सारेगामा
Movie Cast/Starring- धर्मेंद्र
Release on- ८थ अगस्त

Leave a Comment

Your email address will not be published.