Ab Puch Song Lyrics in Hindi – Emiway Bantai

Song : Ab Puch Lyrics
Singer : Emiway Bantai
Music : 6LACK
Lyrics : Emiway Bantai

Ab Puch Song Lyrics in Hindi

पूछा सवाल मैने खुद से
हन कितने बार क्या सब सही कर रहा हू
जो होना है वो होकर रहेगा
तो फिर कहे को दर रहा हू

धीरे धीरे ज़िम्मेदारी आने लगी
तो मैने देख की अब तो
मैं खुद से सुधार रा हू
दोस्ती यारी मज़ेमारी में चढ़ने लगा था
अब मैं उतार रहा हू
बदलना है सब कुछ
यह तान लिया था हन मैने सच मच

जो वी कहते थे क्या तू कमाएगा
ये सब तू करके आजा बेटा अब पूछ

अब पूछ, अब पूछ

हन अब पुच्छ मुझे मैं बोलूं ये शुरुआत है
गाना रेकॉर्ड हो रेला है और होरा रात है
सब साले सोचे ये कैसे लिख परा है
इतनी सारी बातें मुझे काफ़ी डाते घरवाले
उसके बिना हम ये कभी नही कर पाते
डिस ग़मे में मार डालते सब लोग को तड़पाके
स्टूडियो में काफ़ी दिन काम किया
मज़ा आरा घर आके

कर आँखें उपर आज घूम रहा कार में
पहले लेके स्कूटर आस पास बोहट शूटर
उड़ता कबूतर हा मज़े लिया मैने बिना फेम के वी
लगुरी से लेके सॅप सीधी लडो ग़मे के भी
पहन के भी घुमा हू मैं शक्तिमान के कपड़े
बचपन से अल्टर था पागल से लड़के पे भड़के
कुछ लोग क्यूंकी लड़का ये खुद लड़के
बाते कर रा चाड के
उपर तो सब सदके रह गये

हम तो बस कह गये बाकी सब बह गये
लालच में पैसे के काग़ज़ में
मगज़ में लालच ना कभी घूसने दिया
मेहनत किया मैने जाम के और
मुझे बेटा उसने दिया छप्पर फाड़ के

अब पूछ, अब पूछ

कोई नि पूछे जब तक उचे ना हो जाओ ज़िंदगी में
कुछ है बस दौलत है फसेले गंदगी में
ऐसे सोच वाले

खुद को पहले सही जगह पे पहुचा ले
दिमाग़ इनका सौचाले शा सोच सोचा न्ही मैं
सबका भला सोचा हन आयेज बढ़ा तभी मैं
अभी मैं वाहा पे नि जहा पे था पहले
आयले सब यहाँ पे अकेले को जाएगे अकेले
थाकेले ना बनके जीना

हाथ पैर है खून पसीना
बहा के लाडो तक़लीफो से
जगा के देखो कितने लोग तक़लीफो के भी
वो सपनो के ओर दौड़े
किल्ला रखे ठोकते हा तोड़ दे
इज़्ज़त नही कमाएगा तो नही देंगे यह

के को फोड़े के को तोड़े किसको काए को निचोड़े
ऐसा कोई आएगा क्या जो इंसानो को जोड़े
मौका छोड़े तब जाके दिमाग़ दौड़े
ऐसे कितने लोग है जो जाग कर भी सो रहे
उठ जाओ

अब पूछ, अब पूछ

इंसान के आँख में ख़ौफ़ देखा
सच देख के करता अनदेखा
सबने बैठ के फन देख अपनी भलाई पे
मॅन बहका है सबका
दुनिया ख़तम कबका हो चुका है
लोग नही सुंरे रब का
सबको अपनी पड़ी है कों किसको डेरा फाटका
सिर्फ़ मज़े लेन में भटका
ज़िंदगी में है अटका
दिमाग़ में कचरा भरा है
लगले झाड़ू कटका क्यूँ फोकट का
खाने की आदत है इंसान पे लानत है
ग़लत होते ड्केहने की इनकी आदत है
यहाँ सोच बोहट छोटी और लंबे इमारत है
काले पैसे को गोरा करने को रखते दावत है
खुलके बात करो मॅन की बात
यहाँ बेटा सबको इज़्ज़त है, खुलके बोल!

अब पूछ अब पूछ

पूछा सवाल मैने खुद से
हन कितने बार क्या सब सही कर रहा हू
जो होना है वो होकर रहेगा
तो फिर कहे को दर रहा हू

धीरे धीरे ज़िम्मेदारी आने लगी
तो मैने देख की अब तो
मैं खुद से सुधार रा हू
दोस्ती यारी मज़ेमारी में चढ़ने लगा था
अब मैं उतार रहा हू
बदलना है सब कुछ
यह तान लिया था हन मैने सच मच

जो वी कहते थे क्या तू कमाएगा
ये सब तू करके आजा बेटा अब पूछ

अब पूछ, अब पूछ

एमिवाय बंटाई!
मालूम है ना!
हा हा हा
पीस आउट!

Music Video of Ab Puch

Leave a Comment

Your email address will not be published.