Dil Khirki Hindi Lyrics – Mehdi Maloof-दिल खिड़की

DETAILS :

Song Title: Dil Khirki
Singer:Mehdi Maloof
Lyrics:Mehdi Maloof
Music:Mehdi Maloof

FULL LYRICS :

एक हज़ार जाने ऐसी मुझपे सब फिदा
इन सब को अलविदा
और एक हज़ार बातें ऐसी सब लगती है सही
लेकिन मैं मानूँगा नही

क्यूंकी कुछ ऐसे है सवाल
की जिनके है जवाब लफ़्ज़ों में मुमकिन ही नही
और कह डून मैं अगर सब पागल इस कदर
कोई मानेगा नही

बस अब दिल खीरकी को खोलो
इन दरवाज़ों को खोलो
बस अब दिल खीरकी को खोलो
इन दरवाज़ों को खोलो

और यह दरवाज़े है ऐसे
की यह खुल जाए अगर
तो बंद यह होंगे ना कभी
और दरया कुछ है ऐसे
जो ना बहने तहे कभी
जबतक हम डूबे तहे नही

और यह ज़ंजीरे है ऐसी
यह ना खुलनी थी कभी
अगर हम झुकते ही नही
और मंज़र यह है ऐसे
यह ना दिखाने तहे कभी
अंदर हम घुसते अगर नही

बस अब दिल खिएकी को खोलो
इन दरवाज़ों को बोलो
बस अब दिल खिएकी को खोलो
इन दरवाज़ों को खोलो

और हन यह सहराओं में चीखो
यह वादियों में सीखो
की अब दिल खीरकी को खोलो
हन यह सहराओं में चीखो
यह तन्हाई में सीखो
की अब दिल खीरकी को खोलो

और गो हम लगते है हैरान
अकेले परेशान
लेकिन हम खुश है मेरी जान
और तेरी आँखें भी उदास
लंबे भिकरे तेरे बाल
लेकिन यह सच है मेरी जान

के फूल खिलते ही नही
और हम मिलते ना कभी
अगर हम गुंटे ही नही

एक हज़ार जाने ऐसी मुझपे सब फिदा
इन सब को मेहदी मालूफ का अलविदा

बस अब दिल खीरकी को खोलो
बस अब दिल खीरकी को खोलो
बस अब दिल खीरकी को खोलो
इन दरवाज़ों को बोलो

Leave a Reply

Your email address will not be published.