प्रथम गणराज को सुमिरूँ जो रिद्धि सिद्धि दाता है भजन लिरिक्स

जो रिद्धि सिद्धि दाता है,प्रथम गणराज को सुमिरूँ,जो रिद्धि सिद्धि दाता है।। मेरी अरदास सुन देवा,तू मूषक चढ़ के आ जाना,सभा के मध्य आकर के,हमारी लाज रख जाना,हमारी लाज रख जाना,करूँ विनती मैं झुक उनकी,माँ गौरी जिनकी माता है,प्रथम गणराज को सुमिरूं,जो रिद्धि सिद्धि दाता है।। क्रिया ना मन्त्र मैं जानू,शरण में तेरी आया हूँ,मेरी …

प्रथम गणराज को सुमिरूँ जो रिद्धि सिद्धि दाता है भजन लिरिक्स Read More »