पियाजी री वाणी मत बोल भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥प्रीतम प्रीत लगाय के , तुम दूर देश मत जाय ।बसो हमारी नगरी में , हम मांगे तुम खाय ॥ जो कोई पियाजी री प्यारी सुणे रे ,देवे…

Continue Readingपियाजी री वाणी मत बोल भजन लिरिक्स

उभी मैं सरवर तीर भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥प्रीतम प्रीत लगाय के , तुम दूर देशमत जाय ।बसो हमारी नगरी में , पिया हम मांगे तुमखाय ॥ ब्रहणी बैठी पीहर में ,पियो बसे परदेश ।खान पान…

Continue Readingउभी मैं सरवर तीर भजन लिरिक्स

फकीरी अलबेला रो खेल भजन लिरिक्स

मस्त फकीर फिरे इण जुग में ,ज्यूं मदछकिया छैल ,फकीरी , अलबेलां रो खेल ॥ तन की घाणी लाट लगन री ,मन रा जोतर बैल ।तमो गुणी तिल पेली रे…

Continue Readingफकीरी अलबेला रो खेल भजन लिरिक्स

सूती होती सात सेज में म्हारी हेली भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥कबीर सपने रैण के , भयो कलेजे छेक ।जद सोवू जद दोय जणां , जद जागूं जद एक ॥ सूती होती सत सेज में म्हारी हेली ,जागे तो…

Continue Readingसूती होती सात सेज में म्हारी हेली भजन लिरिक्स