पत्थर में देवत नहीं भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
हू तन तो सब बन भया करम भए कुहांडि ।
आप आप कूँ काटि है, कहै कबीर बिचारि॥

पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

टाक्याउ घड इने नानी मार मारियो।
मूर्ति ने पाठ बिठाई। २
हाले जीने घाटी कर दिनी। २
भिड़ी ओ भीता माई ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। ..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

पांच जना मिल थरपै भाटो।
जद देवत प्रकट हो जाई।
हर भाटा में परमेशर वे तो।
वान विदेश बेचे नहीं ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। …..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

मिला रु काकी पाती तोड़ने।
मूर्ति के शीश चढाई। २
बोझ तोक ने उबो बापड़ो ,
निचे नाके नहीं ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। …..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

छबलियो गड़ाई चांदी को छटायो।
जाके नेत्र नाक बनवाई रे हा हा ।२
आठो पेर भोपा गला में राखे ,
यो मुंडे बोले नहीं ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। …..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

खीर खांड का अम्रित भोजन।
मूर्ति के भोक लगाई २
धुप धुप तो अगनि ले गई।
देव धुवा के माई ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। ..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

तेल सिंदूर का करे नीपना।
मूरत मुंडे बोले नहीं। २
दोई जोड़ कर गुर्जर कनीराम बोले।
सब देवत खटके मई ,
संता पत्थर में देवत नाई हा हा। …..
पत्थर में परमेश्वर वे तो,
जल में डुबे नाई ,
संता पत्थर में देवत नाई।

पत्थर में देवत नहीं भजन pathar me perameshwer ve to bhajan, heera lal rav bhajan, campitition bhajan

Leave a Reply