बिना निवण कुण तिरिया भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
निवण बड़ी संसार में , और नहीं निवे सो नीच ।
निवे नदी रो गूदलो , वो रेवे नदी रे बीच ।।

आदु – आदु पंथ निवण पद मोटो ,
संगत संतों वाळी करिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया ।

मूळ रे कमल बिच चारों चौकी ,
गणपत आसन धरिया ।
आसण मार इदक होय बैठा ,
जाप अजम्पा जपिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया ।।

पेलो निवण म्हारा मात – पिता ने ,
उत्पुत पालन करिया ।
दूजो निवण इण धरती माता ने ,
जिण पर पगल्या धरिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया ।।

तीजो निवण म्हारे गुरा पीरां ने ,
हृदये उजाळा करिया ।
चौथो निवण इण सतरी संगत ने ,
जिण में आय सुधरिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया ॥

निवण करूं म्हारा ज्योति सरूपी ,
होय इन्दर होलरिया ।
इमरत बूंदां बरसण लागी ,
मान सरोवर भरिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया

बिना पाळ भवसागर भरिया ,
गुरु शरणां में उबरिया ।
गुरु शरणे माळी लिखमो जी बोले ,
भूल भरम सब टळिया रे
साधुभाई ! बिना निवण कुण तिरिया ।।

बिना निवण कुण तिरिया. bina nivan kun tiriya bhajan lyrics. prakash mali bhajan. satguru bhajan

Leave a Reply