श्री जैन लोगस्स सूत्र | श्री जैन लोगस्स पाठ | Shree Jain Logassa Sutra | Shree Jain Logassa Path

्री जैन ोगस्स सूत्र | श्री जैन लोगस्स पाठ | Shree Jain Logassa Sutra | Shree Jain Logassa Path

लोगस्स उज्जोअ-गरे, धम्म-तित्थ-यरे जिणे
अरिहंते कित्तइस्सं, चउवीसं पि केवली 1

उसभ-मजिअं च वंदे, संभव-मभिणंदणं च सुमइं च
पउम-प्पहं सुपासं, जिणं च चंद-प्पहं वंदे 2

सुविहिं च पुप्फ-दंतं, सीअल-सिज्जंस-वासु-पुज्जं च
विमल-मणंतं च जिणं, धम्मं संतिं च वंदामि 3

कुंथुं अरं च मल्लिं, वंदे मुणि-सुव्वयं नमि-जिणं च
वंदामि रिट्ठ-नेमिं, पासं तह वद्धमाणं च 4

एवं मए अभिथुआ, विहुय-रय-मला पहीण-जर-मरणा
चउ-वीसं पि जिणवरा, तित्थ-यरा मे पसीयंतु 5

कित्तिय-वंदिय-महिया, जे ए लोगस्स उत्तमा सिद्धा
आरुग्ग-बोहि-लाभं, समाहि-वर-मुत्तमं-दिंतु 6

चंदेसु निम्मल-यरा, आइच्चेसु अहियं पयास-यरा
सागर-वर-गंभीरा, सिद्धा सिद्धिं मम दिसंतु 7

 Video

This Post Has One Comment

Leave a Reply