सतगुरु मिले तो बता मैं करा जी भजन लिरिक्स

।। दोहा।।
गुरु लोभ शीष लालची ,दोनों खेले दांव।
दोनों बूड़े बापु रे ,चढ़ी पाथर की नाव।।

संतो रे मुख पर बरसे नूर।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २

नदियों रे आगे नाळा क्या करे ये ,
सावन रे पेली सुख जाय।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २
संतो रे मुख। ……

सूरा रे आगे कायर क्या करे ये। २
भीड़ता ही पेली भग जाय।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २
संतो रे मुख। ……

पूरा गुरा रा लीजिये वारणा ये। २
अगुरु सु अलगा रिज्यो दूर।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २
संतो रे मुख। ……

दास अखोजी विनती कर रिया ये।
संता रो अमरा पुर में वास।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २

संतो रे मुख पर बरसे नूर।
राज मोरी सैया ये ,
सतगुरु मिले तो बाता में करा ये। २

संतो रे मुख पर बरसे नूर राज मोरे सैयां रे सतगुरु मिले तो बता मैं करा जी भजन लिरिक्स satguru mile to bata me kara, satguru bhajan satguru ka bhajan

Leave a Reply