दारिद्रय दहन स्तोत्र लिरिक्स Daridrya Dahan Strot Lyrics

दारिद्रय दहन स्तोत्र लिरिक्स Daridrya Dahan Strot Lyrics

प्रतिदिन भगवान शिव का,
दारिद्रय दहन स्तोत्र के साथ,
अभिषेक करने से मनुष्य को,
स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति होती है,
तथा दरिद्रता से मुक्ति मिलती है।

दारिद्रय दहन स्तोत्र
विश्वेश्वराय नरकार्णवतारणाय,
कर्णामृताय,
शशिशेखराय धारणाय,
कर्पूरकांति धवलाय जटाधराय
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।
 
गौरी प्रियाय रजनीश,
कलाधराय कालान्तकाय,
भुजंगाधिप कंकणाय,
गंगाधराय गजराज विमर्दनाय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।
 
भक्ति प्रियाय भवरोग भयापहाय,
उग्राय दुर्गमभवसागर तारणाय,
ज्योतिर्मयाय गुणनाम सुनृत्यकाय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।

चर्माम्बराय शवभस्म विलेपनाय,
भालेक्षणाय मणिकुंडल मण्डिताय,
मंजीर पादयुगलाय जटाधराय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।
 
पंचाननाय फणिराज विभूषणाय,
हेमांशुकाय भुवनत्रय मण्डिताय,
अनन्त भूमि वरदाय तमोमयाय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।
 
भानुप्रियाय भवसागर तारणाय,
कालान्तकाय कमलासन पूजिताय,
नेत्रत्रयाय शुभलक्षण लक्षिताय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।

रामप्रियाय रघुनाथ वर प्रदाय,
नागप्रियाय नरकार्णवतारणाय,
पुण्येषु पुण्यभरिताय सुरार्चिताय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।
 
मुक्तेश्वराय फलदाय गणेश्वराय,
गति प्रियाय वृषभेश्वर वाहनाय,
मातंग चर्मवसनाय महेश्वराय,
दारिद्रय दु:ख दहनाय नम: शिवाय।।

See This Lyrics also:   शिवाष्टक स्तोत्र संपूर्ण लिरिक्स Sampurna Shivashtakam Lyrics

Leave a Comment