कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
ब्रज की रज भक्ति बनी, ब्रज है कान्हा रूप,
कण-कण में माधव बसे, कृष्ण समान स्वरूप।

कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले। ,
मुरली वाले मुझको भी सेवा में लगा ले।
चरणों में अपने बिठा ले, बिठा ले,
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले।

ये तन मन धन और ये जीवन ,
सब कुछ मोहन तुझको अर्पण।
थाम ले मेरी बाह कन्हैयाँ ,
शरण में रख ले ओ मन मोहन।
बनवारी मुझको अपना ले, अपना ले,
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले।

राह निहारूँ पलक बिछाए ,
नाम पुकारूँ आस लगाए।
मिलन हो आत्मा परमात्मा का ,
बंध कटे दुरी मिट जाए।
आ जाना मुझको बुला ले, बुला ले,
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले।

निधि वन मधुवन और वृंदावन ,
कुञ्ज गली और कानन-कानन।
बन कर छाया संग संग डोलूँ ,
तुझ संग बीते हर पल हर क्षण।
बाँसुरिया अपनी बना ले, बना ले ,
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले।

कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले ,
मुरली वाले मुझको भी सेवा में लगा ले।
चरणों में अपने बिठा ले, बिठा ले,
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले।

priyanka mitra bhajan video

कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले Kanha Mere Mujhko Bhi Seva Me Lagale kanha bhajan lyrics in hindi
कान्हा मेरे मुझको भी सेवा में लगा ले लिरिक्स इन हिंदी
भजन :- मुझको भी सेवा में लगा ले
गायिका :- प्रियंका मित्तरा

Leave a Reply