किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं भजन लिरिक्स

किसी के काम जो आए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।
पराया दर्द अपनाए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।

kabhi धनवान है कितना ,
कभी इन्सान निर्धन है ।
कभी सुख है कभी दुःख है ,
इसी का नाम जीवन है ।
जो दुःख में भी न घबराए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।
किसी के काम ….

यह दुनिया एक उलझन है ,
कभी धोखा कभी ठोकर ।
कोई हँस – हँस कर जीता है ,
कोई जीता है रो – रो कर ।
जो गिर कर फिर संभल जाए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।
किसी के काम ….

अगर गलती रुलाती है ,
तो यह राह भी दिखाती है ।
बशर गलती का पुतला है ,
ये अक्सर हो ही जाती है ।
जो गलती करके पछताए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।
किसी के काम ….

अकेले ही जो खा – खा कर ,
सदा गुजरान करते हैं ।
यूँ भरने को तो दुनियाँ में ,
पशु भी पेट भरते हैं ।
जो सबको बाँट कर खाए ,
उसे इन्सान कहते हैं ।
किसी के काम ….

traditional bhajan video

किसी के काम जो आए उसे इंसान कहते हैं, kisi ke kaam jo aaye use insaan kehte hain, hindi bhajan with lyrics,भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- किसी के काम जो आए
गायक :- विट्ठल दायमा

Leave a Reply