दुनिया बनाने वाले कैसी तेरी माया है भजन लिरिक्स

दुनियाँ बनाने वाले ,
कैसी तेरी माया है ।
कहीं बरसात ,
कहीं धूप कहीं छाया है ।

पर्वतों की चोटियाँ हैं ,
आसमाँ को चूमतीं ।
रेशमी घटाएँ काली ,
पर्वतों पे घूमतीं ।
कहीं चाँद सूरज ,
कहीं सागर को बनाया है ।
कहीं बरसात ,
कहीं धूप कहीं छाया है ।
दुनियाँ बनाने …

गुजरते पलों की टोली ,
यह ही गुनगुना रही ।
रुके न समय की गाड़ी ,
धीरे धीरे जा रही ।
कल आज और कल का ,
तूने चक्कर क्या चलाया है ।
कहीं बरसात ,
कहीं धूप कहीं छाया है ।
दुनियाँ बनाने …

अच्छे बुरे कर्मों की है ,
पूँजी सबके साथ में ।
सभी वह खिलौने ,
जिनकी चाबी तेरे हाथ में ।
नाचना पड़ा है ,
तूने जैसे भी नचाया है ।
कहीं बरसात ,
कहीं धूप कहीं छाया है ।
दुनियाँ बनाने …

कौन सी जगह है खाली ,
कहाँ तेरा वास है ।
कहीं तू नहीं है लेकिन ,
फिर भी सबके पास है ।
किसी ने भी आजतक न ,
इस उलझन को सुलझाया है ।
कहीं बरसात ,
कहीं धूप कहीं छाया है ।
दुनियाँ बनाने …

हिंदी भजन | devotional songs Video

दुनिया बनाने वाले कैसी तेरी माया है, duniya banane wale kaisi teri maya hai, भजन गीत, hindi bhakti song, हिंदी भजन, devotional songs
भजन :- दुनियाँ बनाने वाले
गायक :- राजेश राही

Leave a Reply