मुझे मेरी मस्ती कहाँ लेके आई भजन लिरिक्स

मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।
जहाँ मेरे अपने , सिवा कुछ नाँहि , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

पता जब लगा मेरी हस्ती का मुझको , सिवा मेरे अपने , कहीं कुछ नाँही ।
मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

सभी में सभी में , पड़ा मैं ही मैं हूँ , सिवा मेरे अपने , कहीं कुछ नाँही ।
मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

ना दुख है ना सुख है , ना है शोक कोई , अजब है ये मस्ती , पीया कुछ नाँही ।
मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

येसागर ये लहरें , ये फेन ये बुद बुदे , कल्पित है जल के सिवा कुछ नाँही ।
मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

परदा है दुई का , हटाकर जो देखा , बस एक मैं हूँ , जुदा कुछ नाँही
मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई , मुझे मेरी मस्ती कहाँ ले के आई ।

narayan swami na bhajan video

मुझे मेरी मस्ती कहाँ लेके आई muje meri masti kahan leke aayi lyrics, hindi bhajan with lyrics, narayan swami na bhajan
भजन :- मुझे मेरी मस्ती कहाँ लेके आई
गायक :- नारायण स्वामी

Leave a Reply