राम नाम को जपता सुबहो शाम है ऐसा मेरा बजरंगबली हनुमान है

राम नाम को जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
मेरा हनुमान है,
वो जपता राम है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

पवन पुत्र अंजनी का लाला,
पल में संकट हरने वाला,
करता नहीं एक पल का भी,
आराम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

शंकर का है ये अवतारी,
इसकी महिमा सबसे भारी,
भगतो का हर पल ये रखता,
ध्यान है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

इनको खुश करना हो प्यारे,
राम नाम तू जपले प्यारे,
खुश होते जो जपता राम नाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

‘कृष्ण’ तेरा हुआ दीवाना,
गाये बस अब तेरा तराना,
‘जीतू’ की तुझसे ही तो पहचान है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

राम नाम को जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है,
मेरा हनुमान है,
वो जपता राम है,
राम नाम कों जपता,
सुबहो शाम है,
ऐसा मेरा बजरंगबली,
हनुमान है।।

हनुमान भजन राम नाम को जपता सुबहो शाम है ऐसा मेरा बजरंगबली हनुमान है
तर्ज – काली कमली वाला मेरा।

Leave a Reply