राम मेरे घर आना भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
लक्मण और सीता के संग , वन को जाते राम
दर्शन प्यासी भीलनी , सुमरे सुबहे और शाम।।

चित्र कूट के घाट घाट पर।
भीलनी जोवे बाट ,
राम मेरे घर आना। २

आसान नहीं है रामा।
कहा में बिठाऊ,कहा में बिठाऊ । २
टूटी पड़ी है खाट खाट –
पर बिछी है ताट ,
राम मेरे घर आना। २

भोजन नहीं है रामा।
क्या में जिमाउ ,क्या में जिमाउ।२
ऊनी पड़ी है घाट घाट –
में डालू खाटी छाछ ,
राम मेरे घर आना। २

मेवा नहीं है रामा।
क्या में चडावु ,क्या में चडावु। २
सूखे पड़े है बेर पेड़ पर ,
लगे हुए है बेर ,
राम मेरे घर आना। २

झूला नहीं है रामा।
क्या में झुलाउ ,क्या में झुलाउ रामा ।२
हरे भरे है पेड़ – पेड़ पर –
झूले राम सिया ,
राम मेरे घर आना। २

चित्र कूट के घाट घाट पर।
भीलनी जोवे बाट ,
राम मेरे घर आना। २

राम मेरे घर आना भजन लिरिक्स ram mere ghar aana bhajan shri ram bhajan in hindi text lyrics

Leave a Reply